chukander khane ke fayde and nuksan चुकंदर क्या है हिंदी में

#चुकंदर के गुण एवम् पोषक तत्व (Beetroot’s properties and nutrients)-

नमस्कार दोस्तों हमारे ज्ञान मंजरी आपका स्वागत है chukander khane ke fayde and nuksan आज हम आप सब को कुछ ऐसी चीजो के बारे में बतायेंगे जिसे आप न तो कभी पढ़ा होगा और न ही कभी सुना होगा जिसे पढ़कर आप एकदम शौक रह जायेंगे तो दोस्तों आज हम आप सब को चुकंदर के बारे में बताएँगे चुकंदर स्वास्थ्य के लिए काफी लाभदायक सब्जी है। इसमें कार्बोहाइड्रेट और कम मात्रा में प्रोटीन और वसा पाया जाता है। इसका जूस सब्जियों में सर्वश्रेष्ठ माना जाता है। यह प्राकृतिक शुगर का सबसे अच्छा स्रोत है। आइये इस लेख में हम आपको विस्तार से बताते हैं chukander khane ke fayde and nuksan चुकंदर के गुणों के बारे में।

चुकंदर की उपयोगी गुण पोषक तत्व से समृद्ध है यह 8- 15%चीनी,1.3 -1.8%प्रोटीन,3-5 % कार्बनिक अम्ल मैग्नीशियम, सोडियम, पोटैशियम, फॉस्फोरस, कैल्शियम, सल्फर, क्लोरीन,  आयोडीन, आयरन, विटामिन बी1, बी2 और सी पाया जाता है। इसमें कैलोरी काफी कम होती है। इसका  जूस कई बीमारियों के उपचार में लाभदायक होता है।चुकंदर पर अन्य सभी भोजन रसीला सब्जियों से बढ़कर है यह रस रक्त को शुद्ध करने में मदद करता है पेट और जिगर की गतिविधि को बढ़ावा देने में हमारी मदद करता है या प्रति वर्ष औसतन हर व्यक्ति सब्जियों के कम से कम 6 किलो का उपयोग करना चाहिए |

chukander khane ke fayde and nuksan चुकंदर क्या है हिंदी में
chukander khane ke fayde and nuksan चुकंदर क्या है हिंदी में

*चुकंदर के रस का लाभ (beatroot juice Benefits )-

1-  चुकंदर का जूस शरीर में खून बनाने की प्रक्रिया में उपयोगी होता है|

२-  चुकंदर का जूस है पीलिया, हेपेटाइटिस, मतली के उपचार में लाभप्रद।

3-   इसके जूस के नियमित सेवन से कब्ज और बवासीर से बचा जा सकता है।

5-   उच्च रक्तचाप, दिल और पांव की नसों के लिए भी उपयोगी है चुकंदर का जूस।

6-   चुकंदर में मौजूद बीटन (beaten) नामक तत्व शरीर में फोड़ा बनने से रोकता है  चुकंदर का रस पेट में पथरी बनने से रोकता है और पेशाब में होने वाली जलन को भी कम करता है।   चुकंदर का उपयोग जिम जाने वाले लोगों के शरीर में एनर्जी को बनाए रखने में मदद करता है। chukander khane ke fayde and nuksan शोधों से पता चला है कि जिन व्यक्तियों को उच्च रक्तचाप की समस्या होती है, वह एक गिलास चुकंदर का रस पीलें तो एक घंटे के अंदर ही उच्च रक्तचाप को नियंत्रण में कर सकते हैं।

*चुकंदर खाने के फायदे [chukander khane ke fayde(Benefits of eating beet)]-

एनीमिया में (anemia) –

चुकंदर का जूस मानव शरीर में खून बनाने की प्रक्रिया में उपयोगी होता है। आयरन की प्रचुरता के कारण यह लाल रक्त कोशिकाओं को सक्रिय और उनकी पुर्नरचना करता है। यह एनीमिया के उपचार में विशेष रूप से उपयोगी होता है। इसके सेवन से शरीर की प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है।

*चुकन्दर के लाभ दिमाग़ के लिए(Beetroot Benefits For Brain In Hindi)-

चुकंदर में कोलीन (choline) नामक पोषक तत्व होता है जो हमारी याद रखने की क्षमता को बढ़ाता है और याददाश्त को तेज रखने में हमारी मदद करता है। चुकंदर का उपयोग हमारे दिमाग़ में ऑक्सीजन के प्रवाह को बनाए रखता है जिससे दिमाग़ में रक्त का संचार सुचारू रूप से होता है। chukander khane ke fayde and nuksan इससे पागलपन के दौरे को भी ख़त्म करने में भी मदद मिलती है।

*चुकंदर की सब्जी के लाभ मधुमेह रोग में(Beetroot For Diabetes Patient In Hindi)-

मधुमेह रोग से पीड़ित व्यक्तियों के लिए चुकंदर बहुत ही लाभदायक होता है। इसमें मौजूद एंटीऑक्सीडेंट रक्त में शक्कर के स्तर को बढ़ने से रोकते हैं। चुकंदर हमारे शरीर की इन्सुलिन सेंसिटिविटी (insulin sensitivity) को रोकता है और ऑक्सीडेटिव (oxidative) तनाव को दूर करता है। chukander khane ke fayde and nuksan इस तरह चुकंदर मधुमेह रोगी के लिए लाभदायक होता है

chukander khane ke fayde and nuksan चुकंदर क्या है हिंदी में
chukander khane ke fayde and nuksan चुकंदर क्या है हिंदी में

*चुकंदर के फायदे प्रेगनेंसी में (Chukandar Benefits In Pregnancy In Hindi)-

चुकन्दर में अच्छी मात्रा में फोलिक एसिड होता है। यह पोषक तत्व गर्भवती महिलाओं और उनके गर्भ में पल रहे बच्चे के लिए महत्वपूर्ण होता है। चुकन्दर के सेवन से गर्भ में पल रहे बच्चे के स्पाइनल कॉर्ड (spinal cord) के निर्माण में मदद मिलती है। चुकन्दर का सेवन गर्भवती महिलाओं को अतिरिक्त ऊर्जा प्रदान करता है।

*चुकंदर के जूस के फायदे हृदय में(Beetroot For Heart In Hindi)-

चुकन्दर में पाए जाने वाला नाइट्रेट (nitrate) नामक रसायन रक्त के दबाव को कम करता है और इसमें मौजूद ब्यूटेन (butane) नामक तत्व रक्त को जमने से रोकता है। इस तरह चुकन्दर दिल से संबंधित बीमारियों को दूर करने में मदद करता है। चुकंदर के जूस को पीने से हाइपरटेंशन और हार्ट अटैक जैसी बीमारियां दूर होती हैं। इसके साथ-साथ चुकंदर का रस रक्त संचार में भी मदद करता है।

*चुकंदर खाने के फायदे पेट से संबंधित में(Beetroot Good For Stomach In Hindi)

चुकन्दर में अच्छी मात्रा में फाइबर पाया जाता है। चुकंदर का प्रयोग पेट से संबंधित बीमारियों जैसे कब्ज और बवासीर के लिए फायदेमंद होता है। इसके लिए आप को रोजाना रात को सोने से पहले एक गिलास चुकंदर के रस को पीना चाहिए। चुकंदर शरीर में भोजन के पाचन में भी मदद करता है.

बीज के फायदे कैंसर के लिए(Beet Good For Fighting Cancer In Hindi)-

चुकंदर में बेटासायनिन (betacyanin) की मात्रा पाई जाती है जिसके कारण चुकंदर का रंग हल्का भूरा और बैंगनी होता है। इसी वजह से यह हमारे शरीर को कैंसर जैसी घातक बीमारियों से लड़ने में मदद करता है।

*चुकंदर के गुण यौन स्वास्थ्य के लिए(Chukandar Ke Labh For Sexual Health In Hindi)-

पुराने ज़माने से चुकंदर का उपयोग यौन स्वास्थ्य के लिए किया जाता है। चुकंदर नाइट्रिक ऑक्साइड देता है जिससे रक्त वाहिनियों का विस्तार होता है और जेनेटल्स में खून का दौरा बढ़ता है।इसके अलावा चुकन्दर में बहुत अधिक मात्रा में बोरान (boron) पाया जाता है जो ह्यूमन सेक्स हार्मोन को बनाने में मदद करता है।

*चुकंदर खाने से फायदा मासिक धर्म में(Beetroot For Periods In Hindi)-

मासिक धर्म के दौरान महिलाओं को अनेकों तरह की समस्याएं होती हैं। चुकंदर में मौजूद तत्व के कारण इस के नियमित सेवन से मासिक धर्म के दौरान होने वाला कष्ट नहीं होता है। chukander khane ke fayde and nuksan मासिक धर्म खुल कर आता है। मासिक धर्म के दौरान होने वाली सुस्ती भी दूर रहती है।

chukander khane ke fayde and nuksan चुकंदर क्या है हिंदी में
chukander khane ke fayde and nuksan चुकंदर क्या है हिंदी में

Beetroot and its Side Effects, चुकंदर के नुकसान |सेहतमंद …

*चुकंदर खाने के फायदे एनर्जी को बढ़ने में(Chukandar Khane Ke Fayde For Energy In Hindi)-

चुकंदर में मोजूद कार्बोहाइड्रेट शरीर की एनर्जी को बढ़ाने और खसरा बुखार जैसी बीमारियों को ठीक करता है। इसके लिए चुकंदर को पानी में उबालकर फिर उस को छान लें अब उस पानी को पीजिए। इस से आप को इन समस्याओं में आराम मिलेगा।

पाचन के लिए (For digestion)-

चुकंदर का जूस पीलिया, हेपेटाइटिस, मतली और उल्टी के उपचार में लाभप्रद होता है। चुकंदर के जूस में एक चम्मच नींबू का रस मिलाकर इन बीमारियों में तरल भोजन के रूप में दिया जा सकता  है। गैस्ट्रिक अल्सर के उपचार के दौरान सुबह नाश्ते से पहले एक गिलास चुकंदर के जूस में एक चम्मच शहद को मिलाकर पियें।

कब्ज और बवासीर में( constipation and piles)-

चुकंदर के नियमित सेवन से कब्ज से बचा जा सकता है। यह बवासीर के रोगियों के लिए भी काफी फायदेमंद होता है। रात में सोने से पहले एक गिलास या आधा गिलास जूस दवा के तौर पर पीना फायदेमंद होता है।

अन्य बीमारियों के लिए(Other diseases)-

चुकंदर का जूस अकार्बनिक कैल्शियम को संग्रहित करने का सर्वश्रेष्ठ माध्यम है। इस कारण यह उच्च रक्तचाप, दिल की बीमारियों और पांव की नसों के लिए उपयोगी होता है। chukander khane ke fayde and nuksan किडनी और पित्ताशय विकार में चुकंदर के रस में गाजर और खीरे के जूस को मिलाकर पीना उपयोगी होता है।

त्वचा के लिए फायदेमंद(Benefits to skin)

सफेद चुकंदर को पानी में उबाल कर छान लें। यह पानी फोड़े, जलन और मुहांसों के लिए काफी उपयोगी होता है। खसरा और बुखार में भी त्वचा को साफ करने में इसका उपयोग किया जा सकता है।

*रूसी होने पर( danrop to hair)-

चुकंदर के काढ़े में थोड़ा सा सिरका मिलाकर सिर में लगाएं या सिर पर चुकंदर के पानी में अदरक के टुकड़े को भिगोकर रात में मसाज करें। सुबह बालों को धो ले।

*चुकंदर के नुकसान(Chukandar Ke Nuksan In Hindi)-

1-जैसे चुकंदर खाने के फायदे हैं वैसे ही इसे अधिक मात्रा में खाने से नुकसान भी हैं।

2-चुकंदर में आयरन और कॉपर भरपूर मात्रा में पाए जाते हैं। chukander khane ke fayde and nuksan हेमोक्रोमैटोसिस (Hemocromatosis) के रोगी को इसके सेवन से बचना चाहिए।

3-जो कम रक्तचाप की समस्या से परेशान हैं उन्हें चुकंदर का सेवन कम कर देना चाहिए।

4-चुकंदर अधिक मात्रा में खाने से मतली और डायरिया की समस्‍या ही सकती है।

5-किडनी की बीमारियों से पीड़ित लोगों को चुकंदर की अधिक मात्रा लेने से बचना चाहिए।

chukander khane ke fayde and nuksan चुकंदर क्या है हिंदी में
chukander khane ke fayde and nuksan चुकंदर क्या है हिंदी में

*चुकन्दर की खेती के लिए आवश्यक भूमि व जलवायु (Soil and Climate For Chukandar Kheti)-

चुकन्दर की फसल को लगभग सभी प्रकार की मिट्‌टी में पैदा किया जा सकता है । लेकिन सर्वोत्तम भूमि बलुई दोमट या दोमट मानी जाती है । कंकरीली व पथरीली मिट्टी में वृद्धि ठीक नहीं होती । भूमि का पी.एच. मान 6 से 7 के बीच का होना चाहिए ।

सर्दी की फसल होने के कारण जलवायु ठन्डी उपयुक्त रहती है । लेकिन कुछ गर्म मौसम में भी उगाया जा सकता है । जाड़ों की फसल में ‘सुगर’ की मात्रा अधिक बनती है । chukander khane ke fayde and nuksan तापमान 8-10 डी० से० ग्रेड हो या नीचे हो तो जड़ों का आकार बढ़ता है तथा जड़ बाजार के लिए उचित होती है ।

*चुकन्दर की खेती के लिए खेत की तैयारी (Chukandar Ki Kheti Ke Liye Khet Ki Taiyari)-

इस फसल की तैयारी उचित ढंग से करनी चाहिए यदि भूमि रेतीली है तो  2-3 जुताई करें तथा कुछ भारी हो तो पहली जुताई मिट्टी पलटने वालें हल से करें तथा अन्य 3-4 जुताई करके पाटा चलायें और मिट्‌टी को बिकुल भुरभुरी कर लें जिससे जड़ों की वृद्धि ठीक हो सके । तत्पश्चात् छोटी-छोटी क्यारियां बनायें । बगीचों में 3-4 गहरी जुताई-खुदाई करें । chukander khane ke fayde and nuksan घास-घूस को बाहर निकालें तथा छोटी-छोटी क्यारियां बनायें । मिटटी को बारीक कर लें ।

*चुकन्दर की उन्नतशील किस्में (Improved Varieties of Chukandar)-

चुकन्दर की दो मुख्य किस्में है जिन्हें उगाने की सिफारिश की जाती है

डेटरोडिट डार्क रेड (Detrpdot Dark Red)-

यह किस्म 80-90 दिन में तैयार हो जाती हैं तथा पत्तियां कुछ गहरालाल रंग (Dark Red) लिये हरी होती हैं । जड़ें चिकनी, गोलाकार व गहरी लाल रंग की होती हैं तथा गूदे में हल्के लाल रंग की धारियां व गूदा रवेदार मीठा होता है |

क्रिमसोन ग्लोब (Krimson Glob)-

यह किस्म भी अधिकतर बोते हैं । जड़ें चपटे आकार की छोटी होती है । पत्तियां गहरी लाली लिये हुए हरे रंग वाली होती हैं । जड़ें ग्लूबलर होती है । chukander khane ke fayde and nuksan गूदा गहरे लाल रंग का होता है तथा धारियों वाला होता है ।

*बीज की मात्रा एवं बुवाई का समय व ढंग (Seed Rate and Sowing Time and Method)-

चुकन्दर के उत्तम सफल उत्पादन के लिए बीज का चुनाव मुख्य है । chukander khane ke fayde and nuksan बीज का उत्तम होना आवश्यक है । साधारणत: बीज की मात्रा 6-8 किलो प्रति हैक्टर की आवश्यकता होती है । बीज की मात्रा, बुवाई का ढंग, समय व किस्म पर भी निर्भर करता है ।

बुवाई खेत तैयारी के बाद सारे खेत में एक साथ न बोकर 10-15 दिन के अन्तर से बोयें जिससे जड़ें लम्बे समय तक मिलती रहें । जाड़े की फसल होने के कारण बोने का समय अक्टूबर से नवम्बर तक होता है । बीज की छोटी क्यारियां बनायें तथा कतारों में लगायें । इन कतारों की दूरी 30 सेमी. तथा पौधे से पौधे की दूरी 10-12 सेमी. रखें जिससे बड़ी जड़ें आपस में मिल न सकें । बीज की गहराई अधिक न लेकर 1-5-2 सेमी. रखें जिससे अंकुरण में परेशानी न आये । गहरा बीज गल, सड़ जाता है । बगीचों के लिये बीज 20-25 ग्राम 8-10 मी. क्षेत्र के लिए काफी होता है । यदि गमलों में लगाना हो तो 2-3 बीज बोयें तथा उपरोक्त समय पर बोयें । कतारों की दूरी 25-30 सेमी. व पौधों की दूरी 8-10 सेमी. रखें ।

*चुकंदर की खुदाई (Beetroot Digging)-

खुदाई बड़ी व मीठी जड़ों की करें तथा बाजार की मांग के हिसाब से करते रहे । खुदाई खुरपी या पावड़े से करें तथा जड़ें कट न पायें । chukander khane ke fayde and nuksan खोदने से पहले हल्की सिंचाई करें जिससे आसानी से खुद सकें तथा ग्रेडिंग करके बाजार भेजें जिससे मूल्य अधिक मिल सके ।

दोस्तों इस लेख से संबंधित आपके पास कोई विचार या सुझाव हो तो हमें कमेंट के माध्यम से बताएं| यदि आपको यह पोस्ट अच्छी लगी हो, तो अपने दोस्तों के साथ Facebook, WhatsApp,Twitter,Google+ पर जरूर शेयर करें| दोस्तों नई पोस्ट की जानकारी सबसे पहले पाने के लिए हमारा फ्री ईमेल सब्सक्रिप्शन जरूर ले|

धन्यवाद!

यह भी पढ़ें-

1-नींबू के फायदे और नींबू के घरेलु नुस्खे Benifits of Lemon in Hindi

2-मेथी खाने के अनेक स्वास्थ्य लाभ-Health benifits of Methi in Hindi

3-औषधीय गुणों से भरपूर पालक के 10 फायदे- Amaging Spinach benifits in Hindi[Palak khane ke fayde]

4-कब्ज से मुक्ति पाने का घरेलु उपचार-Best Home made treatment and Hindi tips for Constipation disease

5-बालों को स्वस्थ्य रखने के उपाय balon ko healthy rakhne ke upay Hindi tips

6-#28 face pack for glowing skin in summer in hindi-गर्मियों के लिए 28फेस पैक

TAG- chukandar ki recipe in hindi,#chukandar ka halwa recipe,#chukandar dishes,#chukandar ki sabzi recipe pakistani,#beetroot sabji south indian style,# beetroot sabji for chapathi,#chukandar ke nuqsanat#benefits of chukandar for skin in urdu#chukandar ka juice benefits in urdu# chukandar beauty tips#chukandar benefits for weight loss#chukandar ke patte ke fayde#chukandar juice recipe in urdu# list of garam taseer food#garam taseer food in english#dahi ki taseer thandi ya garam#thandi taseer wali cheezain# garam taseer wali cheezain#thandi taseer wala khana#chukandar ki taseer in urdu#thandi taseer ka khana#chukandar juice ke fayde# gajar ka juice in hindi#gajar ka juice ki recipe#mosambi juice ke fayde#enefits of carrot in hindi language#gajar ke nuksan# gajar ka juice banane ka tarika#gajar ke faide in urdu#,chukander beetroot khane fayde nuksan health benefits hindi

Rahul Maurya

I am Founder of this website. Thank you..

2 thoughts on “chukander khane ke fayde and nuksan चुकंदर क्या है हिंदी में

  • June 7, 2018 at 2:26 am
    Permalink

    Bahut achhi post hai sir.. chukandar ke fayde ke bare me bahut achhi jaankari likha hua hai aapne.
    Thanks a lot

    • June 7, 2018 at 3:24 am
      Permalink

      hme khushi hai ki aapko hmari post achhi lgi..
      hm aur bhi achhi post laane ka prayash karenge…

Comments are closed.

%d bloggers like this: